Caring For Your Newborn



जन्म के बाद शिशु अक्सर होता है इन 3 रोगों का शिकार, ऐसे करें उसकी देखभाल

Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 24, 2019

शिशु की देखभाल करना बहुत जरूरी भी होता है और बहुत मुश्किल भी होता है। जन्‍म के 1 से 28 दिनों में सभी शिशुओं को अतिरिक्‍त‍ देखभाल की जरूरत होती है और यह देखभाल ही बच्चे के संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य निर्धारित करती है। लेकिन जो बच्चे जन्‍म के समय कमज़ोर होते हैं, उन्हें विशेष देखभाल की जरूरत होती है। प्रसव के बाद मां की जिम्‍मेदारी और भी बढ़ जाती है, क्‍योंकि उसे नयी जिम्‍मेदारी मिल जाती है। घर में आये इस नये मेहमान की जिम्‍मेदारी आसान काम नहीं है, इसके लिए जानकारी के साथ-साथ विशेष देखभाल की भी जरूरत होती है। नवजात का शरीर बहुत नाजुक होता है इसलिए कोई भी गलती उसे अस्‍वस्‍थ कर सकती है। आज हम आपको शिशु की देखभाल करने के कुछ आसान तरीके बता रहे हैं।

नवजात देखभाल महत्वपूर्ण क्यों है?

सभी नवजात शिशुओं को विशेष देखभाल की जरूरत है, चाहे वह स्वस्थ हो या अस्वस्थ। हर मां को अपने बच्चे को स्तनपान ज़रूर कराना चाहिये क्योकि एक नवजात शिशु के लिए यह पोषक तत्वों का सबसे अच्‍छा स्रोत है, जो बच्चे के विकास में मदद करता है। नवजात देखभाल का यह पहला पहलू है। यह बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए और भविष्य में सभी संक्रमणों से लड़ने में सहायक होता है। स्तनपान के विभिन्न फायदे हैं। वो माताओं जो पहले से ही किसी बीमारी से पीड़ित है मानती है और यह मानती हैं कि उन्‍हें अपने बच्चे को स्तनपान नही कराना चाहिये, यह एक पूरी तरह से गलत अवधारणा है।

कुछ मामलों में, माता-पिता को नव प्रसव देखभाल के दौरान कई प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। लेकिन यह बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। एक शिशु के माँ और पिता को अपने नवजात देखभाल से संबंधित सभी संदेह स्पष्ट करने चाहिए। नवजात देखभाल के दौरान एक मां को भी पौष्टिक भोजन लेने की सलाह दी जाती है, जो बच्चे के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। नवजात देखभाल में एक माँ को बच्चे की आवश्यकता पर ध्यान देना पडेगा। साथ ही एक मां को ये भी पता होना चाहिये कि किन परिस्थितियों में उसको तुरंत एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से संपर्क करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : अंगूठा चूसने से बच्चों के दांतों में हो जाता है गैप, ऐसे छुड़ाएं आदत

शिशु के दांत साफ करने के तरीके

  • जब तक बच्ची अपनी इच्छा से पानी को मुंह से बाहर निकालना ना सीखे टूथपेस्ट‍ का इस्तसमाल ना करें।
  • जब तक शिशु का दांत नहीं निकल जाता उसके मसूड़ों को साफ काटन के कपड़े से पोछ कर साफ करें।
  • लेकिन जैसे ही शिशु का पहला दांत निकले, बच्ची को गुनगुने पानी से ब्रश कराएं ।

इन तरीकों को अपनाएं

  • बच्‍चे का रोना बुरा नहीं होता है। बच्‍चा जब रोता है तो मां अक्‍सर यह समझती है कि उसका बच्‍चा किसी तकलीफ में है, लेकिन हर बार ऐसा नहीं होता है। रोना बच्चे के लिए एक अच्छा अभ्यास भी है। वैसे आमतौर पर यही माना जाता है कि बच्‍चे पेट में तकलीफ होने पर रोते हैं। बच्‍चों को जब भूख लगती है तब भी वे रोते हैं।
  • नवजात शिशु के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है। यह बच्‍चे का पहला आहार होता है और बच्‍चे को कई बीमारियों से बचाता भी है, यदि बच्‍चे ने मां का दूध नहीं पिया तो भविष्‍य में भी उसे कई प्रकार के बीमारियों के होने की संभावना बनी रहती है। इसलिए हर मां को चाहिए कि वह अपने नवजात को स्‍तनपान करायें। छह महीने की आयु तक तो बच्‍चे को सिर्फ मां का दूध ही पिलाना चाहिए। स्‍तनपान कराने से मां भी ब्रेस्‍ट कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से भी बचती है।
  • बच्‍चे की मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए उनकी मालिश जरूर करें। लेकिन बच्‍चे की मालिश सावधानीपूर्ण करनी चाहिए, मालिश करते समय जोर न लगायें। बच्‍चे की मालिश हमेशा हल्‍के हाथों से कीजिए। जोर लगाकर मालिश करने से बच्‍चे को परेशानी हो सकती है। मालिश के लिए जैतून का तेल, बादाम का तेल आदि का इस्‍तेमाल करना अच्‍छा रहेगा।
  • नवजात को कपड़े पहनाते वक्‍त ध्‍यान रखना चाहिए, उनको कॉटन के ढीले कपड़े पहनाइए। बच्चे का शरीर पूरी तरह ढंका होना चाहिए, ताकि उसे ठंड न लगे। गर्मी के मौसम में बच्चे को ऊनी कपड़े पहनाने की आवश्यकता नहीं होती है। बच्‍चों के कपड़ों को गर्म पानी से साफ कीजिए और उन्‍हें अलग से सुखाइए जिससे कि वे संक्रमित न हों। 
  • बच्‍चों के दांत निकलते वक्‍त उन्‍हे बहुत समस्‍या हो सकती है, इस समय बच्‍चे की रुचि खानपान में बिलकुल नहीं होती है और वह चिड़चिड़ा भी हो जाता है। सामान्‍यतया बच्‍चे के दांत 6 महीने बाद निकलना शुरू हो जाते हैं। इसके कारण बच्‍चे को दस्‍त और उल्‍टी की शिकायत भी हो सकती है। 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें:

Read More Articles On






Video: Parenting U - Newborn Care

Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi
Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi images

2019 year
2019 year - Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi pictures

Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi forecasting
Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi advise photo

Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi pics
Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi images

Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi new pictures
Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi new picture

photo Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi
foto Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi

Watch Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi video
Watch Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care In Hindi video

Forum on this topic: Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care , newborn-baby-care-tips-parenting-child-care/
Forum on this topic: Newborn Baby Care Tips Parenting Child Care , newborn-baby-care-tips-parenting-child-care/ , newborn-baby-care-tips-parenting-child-care/

Related News


The Truth About Green Tea
What Do You Do With A 1-Year-Old On A Rainy Day
How to Start a Motorcycle Business
Usertalk: Anjelisse Muniz
How to Reuse Old School Supplies
How to Make Mercury Glass
Statins Cut Glaucoma Risk in Older Eyes
Smoking Ban Reduces Preterm Deliveries
Constance Wu Was Asked to Use Skin-Lightening Creams to Fade HerFreckles
Giuliana Rancic Busted Sarah Silverman with Weed on the Emmys RedCarpet
Plecanatide Reviews
How to Install Lowering Springs
15 Easy Ways to Organize Your Laundry Room
Double Chocolate Cherry Drops



Date: 11.12.2018, 09:28 / Views: 43285